Back

अब ख़त्म होगा सफेद दाग (विटिलिगो) : देवकर साहेब

सफेद दाग त्वचा के रंगद्रव्य के कम होने का अधिग्रहित विकार है जो शरीर के विभिन्न हिस्सों पर सफेद दाग और धब्बों के कारण होता है, जो मेलोसाइट्स के चयनात्मक क्षय को दर्शाता है। यह स्थिति दुनिया भर में सभी जातियों को प्रभावित करती है। सौन्दर्य-प्रसाधन की विरूपता की वजह से इससे बहुत से तिरस्कार जुड़े हुए हैं। यह स्थिति बीमारी से पीड़ित व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित करती है और रोगी अक्सर मनोवैज्ञानिक संकट और कम आत्म सम्मान से पीड़ित होते हैं । वे कई बार सामाजिक उपेक्षा के शिकार होते हैं जो उन्हें समाज से अलग-थलग कर देता है।

अपर्याप्त ज्ञान और उम्र की गलतफहमी इस स्थिति से जुड़ी अनुचित आशंका के प्रमुख कारण हैं। एक गलत धारणा है कि बीमारी संपर्क से फैल सकती है। सफेद दाग रंग गैर-संक्रामक है और संपर्क से नहीं फैलता है। आहार की आदतों को लेकर भी बहुत सारे मिथक बने हुए हैं। उदाहरण के लिए, लोग खट्टे भोजन, मछली, सफेद भोजन आदि को खाने से डरते थे और उन्हें सफेद दाग का कारण मानते थे। हालांकि, इस विश्वास का समर्थन करने के लिए कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। वास्तव में विभिन्न आहार आदतों वाले विभिन्न जातियों, धर्मों और सामाजिक-आर्थिक समूहों से संबंधित लोग बीमारी के प्रति किसी पूर्वाग्रह में कोई महत्वपूर्ण भिन्नता नहीं दिखाते हैं।

एक और मिथक जो इससे संबंधित है वह यह है कि सफेद दाग और कुष्ठ रोग एक ही है। किलासा या बाहरी कुष्ठ (सफेद दाग) और कुष्ठ रोग को आयुर्वेद में एक साथ वर्णित किया गया था और माना जाता है कि इनके होने का विज्ञान एक ही है है। ‘कुष्ठ’ प्रत्यय का उपयोग आयुर्वेद में सभी त्वचा रोगों के लिए किया गया था। हालाँकि, यह बाद में “लेप्रोसी” का पर्याय बन गया। इसी प्रकार सफेद दाग का वर्णन पुराने नियम में यहूदी शब्द ’जोरा एट ‘के तहत किया गया था, जिसका अनुवाद ग्रीक और अंग्रेजी में ‘लेप्रा’ के रूप में किया गया था, जो सफेद धब्बे और कुष्ठ रोग के बीच भ्रम की स्थिति पैदा करता है।

बहरहाल हमने श्री च्यवन आयुर्वेद के अंदर, अनुभवी आयुर्वेदाचार्यों की सहायता से ऐसे दिव्य औषधियों का मिश्रण तैयार किया है जिससे हम सफ़ेद दाग न की रुकेंगे बल्कि जड़ से ख़त्म भी होंगे।
अब तक पुरे भारत में हमने हजारों लोगो को आयुर्वेद के माध्यम से फायदा पहुंचने की कोशिश की है और हम इसे जन-जन तक पहुंचाने के लिए प्रयाशरत हैं।
सफ़ेद दाग को ठीक करने के लिए कुछ परहेजों के साथ श्री च्यवन के औषधियों का नियमित उपयोग कोई भी होने सफ़ेद दाग को जड़ से ख़त्म कर सकेगा।
विस्तार में जानकारी प्राप्त करने और पूर्ण समाधान प्राप्त करने हेतु हमारे विषेशज्ञों से सीधे बात करने हेतु 077145-99999, 077167-55555 सकते हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published.